आप यहाँ पर हैं

सूजी की पानी पूरी (Paanipuri) (गोलगप्पे)

गोलगप्पे Paanipuri का नाम सुनते ही मुह में पानी आ जाता है. गोलगप्पे Paanipuri की पॉपुलैरिटी इसी से पता चल जाती है. हर गली नुक्कड़ पर आपको गोलगप्पे Paanipuri की रेहड़ी पर लोग गोलगप्पे Paanipuri खाते हुए दिखाई देंगे. इससे पेट का हजमा भी सही रहता है. तो आइये जानते है इन्हें कैसे बनाया जाता है.paanipuri

सूजी की पानी पूरी (Paanipuri) (गोलगप्पे)

सामग्री – सूजी की पानी पूरी (Paanipuri) (गोलगप्पे)

  • सूजी –  200 ग्राम
  • तेल –  70 ग्राम
  • तेल – तलने के लिए

विधि – सूजी की पानी पूरी (Paanipuri) (गोलगप्पे)

सूजी की पानी पूरी बनाने के लिए, सबसे पहले सूजी को गूंथ कर तैयार कीजिये. इसके लिए बारीक सूजी का उपयोग किया जाता है. सूजी को एक बड़े बर्तन  में निकाल लीजिए. तेल डाल कर अच्छी तरह मिला दीजिए.

loading...

सूजी में हल्का गुनगुना पानी थोडी़-थोड़ी मात्रा में डालते हुए चपाती के आटे से भी नरम आटा गूंथ कर तैयार कर लीजिए. गूंथे हुये आटे को सैट होने के लिये ढककर के 20 मिनिट के लिये रख दीजिये. सूजी का आटा अच्छे से फूलकर तैयार हो जाएगा.

आटा सैट हो चुका है, कढा़ई में तेल गर्म होने के लिए गैस पर रख दीजिए. गूंथे आटे में से आधा भाग आटे का लेकर चकले पर रख दीजिए और अच्छे से मसल कर, पटक कर आटे को चिकना कर लीजिए. लगभग 3-4 मिनिट में आटा चिकना होकर तैय़ार हो जाता है.

सूजी के आटे के चिकना हो जाने पर हाथ पर तेल लगाकर आटे से छोटी-छोटी लोईयां तोड़ कर, उन्हैं गोल करके तैयार कर लीजिए. एक लोई उठा कर चकले पर रखिए, हाथ से हल्का सा दबाइये और बेलन से हल्का सा प्रेशर लगाकर थोडी़ सी मोटी पूरी बेल लीजिये.

तेल के अच्छा गरम हो जाने पर इसमें बेली हुई पूरी डाल दीजिए, दूसरी पूरी बेलिये और डालिये और देखिये पूरी अपने आप फूल कर तैरने लग जाती है, इस तरह जितनी पूरी कढ़ाई में आ जायं उतनी डाल दीजिए. अब कलछी को घुमाते हुये, तेल उछाल कर पानी पूरी के ऊपर से डालें, और गोल्डन ब्राउन होने तक तल कर तैयार कर लीजिए. तैयार पूरीयों को प्लेट के ऊपर रखी जाली वाली डलिया में निकाल कर रखते जायं और सारी पानी पूरी इसी तरह तल कर तैयार कर लीजिये, पूरी से अतिरिक्त तेल निकल कर, डलिया के नीचे रखी प्लेट में आ जाता है. पानी पूरी के लिए पूरी बनकर के तैयार हैं.

loading...

पानी की सामग्री  – सूजी की पानी पूरी (Paanipuri) (गोलगप्पे)

  • काला नमक – 2 छोटे चम्मच
  • नमक – 1/2 छोटी चम्मच
  • भुना जीरा -1 छोटा चम्मच
  • सूखा पोदीना – 1 छोटा चम्मच या हरा पोदीना पत्ती 2 टेबल स्पून
  • अदरक पेस्ट – 1 छोटी चम्मच
  • आम की खटाई – 50 ग्राम
  • हरा धनिया – 50 ग्राम या एक कप
  • हरी मिर्च -7
  • काली मिर्च – 1/2 छोटी चम्मच

पानी बनाने की विधी – सूजी की पानी पूरी (Paanipuri) (गोलगप्पे)

आम की खटाई को धोकर 3-4 घंटे के लिए पानी में भिगो कर रख दीजिए इससे यह नरम होकर तैयार हो जाती है. खटाई को मिक्सर जार में डाल कर बारीक पेस्ट बना लीजिए. पेस्ट को छान कर प्याले में निकाल लीजिए, छलनी में बचे रेशे हटा दीजिये.

मिक्सर जार में धनिया के पत्ते, हरी मिर्च, काली मिर्च, अदरक का पेस्ट, काला नमक, पुदीना पाउडर, भुना जीरा पाउडर, नमक और थोडा़ सा पानी डालकर बारीक पेस्ट बना लीजिए.

छाने हुए खटाई के पल्प में धनिया-पुदीना का पेस्ट और पानी डालकर अच्छे से मिला दीजिए. गोल गप्पों के लिए स्वादिष्ट पानी बनकर तैयार है. हम इसमें बेसन की बूंदी भी मिला सकते हैं.

पानी पूरी सर्व करने के लिए उबले हुये आलू को छील कर छोटा छोटा काट लीजिये, इसमें भुना जीरा, नमक और थोडा़ सा हरा धनिया डाल कर आलू तैयार कर लीजिए और मीठी चटनी बना लीजिये.

सूजी की पानी पूरी को किसी एयर टाईट कंटेनर में भर कर रख दीजिए और 10-15 दिनों तक आराम से जब भी आपका मन गोल गप्पे खाने का करे इन्हें कंटेनर से निकालिए और खाईये.

नोट- सूजी का आटा नरम गूंथे और उसे अच्छे से मसल-मसल कर चिकना करना होता है. यदि लोई बनाते हुए लोई में दरारें आ रही हों तो इसका मतलब है की आटा अच्छे से चिकना नहीं हुआ है या आटा सख्त है. लोई को हल्का सा दबाव देते हुए थोडा़ मोटा बेलें क्योंकि पतली पूरी बेलने पर पूरी फूलेगी नही. गोल गप्पे तलने के लिए तेल अच्छा गरम होना चाहिए.

You May Be Interested

Leave a Reply