आप यहाँ पर हैं

गुड़हल (Hibiscus) के आयुर्वेदिक तथा औष्धिय गुण

Hibiscus गुड़हल का एक साधारण सा फूल होता है मगर देखने में ये बहुत ही सुंदर लगता है ये लगभग हर पार्क और गार्डन में पाया जाता है . ये ज्यादा तर गर्म इलाकों में  पाया जाता है . ये कई प्रकार का होता है Hibiscus गुडहल पार्क और घर की खूबसूरती को बढ़ाने के साथ-साथ ओषधी के रूप में भी प्रयोग किया जाता है . कई देशों में गुडहल की पत्तियों को सुखा कर चाय के रूप में प्रयोग किया जाता है .  Hibiscus गुडहल की पत्तियों की चाय शरीर की कई कमियों को पूरा करती है ये मलेशिया का नेशनल फूल है . Hibiscus गुडहल में अनेक गुण भरे हुए हैं . जो इस प्रकार हैं .HIBISCUS

गुड़हल (Hibiscus) के आयुर्वेदिक तथा औष्धिय गुण

बालों का कंडीसनर

loading...

गुडहल की पत्तियों और फूलों का पेस्ट बना कर शैम्पू  के बाद बालों में लगाने से अच्छी चमक आती है .

और बाल चमकदार बनते हैं .ये बालों का रंग काला करता है और डैनड्रफ को भी साफ करता है .

किडनी की सुरक्षा

गुडहल की पत्तियों की चाय पीने से किडनी खराब होने का खतरा कम होता है और डिफ्रेशन के समय पीने से  मूड भी ठीक करती  है .

त्वचा की सुरक्षा

अल्ट्रावायलेट किरणों और झुर्रियों से बचने के लिए गुडहल की पत्तियों का पेस्ट बना कर लगायें ये हमारी त्वचा की रक्षा करता है .

व्लड प्रेशर करे कंट्रोल

गुडहल की पत्तियों से बनी चाय रोज पीने से व्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है .

घाव भरे जल्दी

loading...

गुडहल का तेल घाव पर लगाने से घाव जल्दी ठीक हो जाता है .

कोलेस्ट्रोल कम करता है

गुडहल की पत्तियों से बनी चाय में पाए जाने बाले तत्व काफी मात्रा में कोलेस्ट्रोल को कम करते हैं .

सर्दी,खांसी में लाभ

गुडहल की पत्तियों में काफी मात्रा में विटामिन c पाया जाता है इस लिए इन के सेवन से सर्दी,खांसी नहीं होती है.

बजन घटाए

गुडहल की पत्तियों से बनी चाय पीने से भूख कम लगती है पाचन शक्ती तेज होती है और इससे फालतू का फैट कम होता है .

पीरियड करे नियमित

गुडहल की चाय पीने से महिलाओं में एस्ट्रोजन का लेवल कम होता है इससे शरीर में हारमोन्स की मात्रा वैलेंस  बनी रहती है और  इस लिए पीरियड के समय होने बाली परेशानी नहीं होती है .

एंटी एजिंग

गुडहल में कई तरह के एंटी ओक्सिडेंट होते हैं जो शरीर में मौजूद फ्री रैडिकल्स को समाप्त करता है इससे उम्र बढने की प्रकिरिया धीमी हो जाती है और बुढ़ापा जल्दी नहीं आता जवानी बनी रहती है .

गंजापन करे दूर

देशी गुडहल के 15 पत्ते और 30 ग्राम बर्र का छत्ता ( जो खाली हो ) दोनों को आधा लीटर नारियल के तेल में धीमीं आग पर पकाएं जब छत्ता जल जाये तो नीचे उतार लें और ठंडा करके किसी कांच की बोतल में भर के रखलें और हल्के हाथों से रोज उस जगह पर मालिस करें जहाँ से बाल उड़ गये हैं कुछ महीनों में बाल उग आयेंगे .

सावधानी – गुडहल की चाय में चीनी न डालें इसे फीकी ही पियें ग्रीन टी की तरह .

You May Be Interested

Leave a Reply