आप यहाँ पर हैं

लौंग (Clove) है आयुर्वेदिक तथा औषधीय गुणों से भरपूर

लौंग (Clove)  को हम पुराने समय से ही रसोई में मसाले के रूप में प्रयोग में लेते आयें हैं. लेकिन रसोई में उपयोग में लाया जाने वाला ये मसाला बहुत से अयुर्वेदिक तथा औषधीय गुणों से भरपूर है. और बहुत काम लोग ही लौंग के इन गुणों से वकिफ है.

लौंग (Clove)  औषधीय एवं आयुर्वेदिक गुणों का खजाना है. यह कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वाष्पशील तेल, वसा जैसे तत्वों से भरपूर होता है। इसके अलावा लौंग में खनिज पदार्थ, हाइड्रोक्लोरिक एसिड में न घुलने वाली राख, कैल्शियम, फॉस्फोरस, लोहा, सोडियम, विटामिन सी और ए भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. इन गुणों के कारण ही लौंग को घर का डॉक्टर भी खा जाता है. आइये आज हम लौंग के इन्ही गुणों को जानते है.clove

loading...

लौंग (Clove) के आयुर्वेदिक तथा औषधीय गुण

दांत के दर्द में बहुत ही फायदेमंद
दांत और मसूड़ों में दर्द से राहत दिलाने में खासतौर पर उपयोगी है लौंग. दर्द के समय अगर एक लौंग (Clove) मुंह में रख लें और उसके मुलायम होने के बाद उसे हल्के-हल्के चबाएं तो दांत दर्द बंद हो जाता है.

सिर दर्द से दिलाती है राहत
सिर दर्द में भी लौंग काफी कारगर है. लौंग (Clove) को पीस कर मस्तिष्क पर लेप करने से दर्द में राहत मिलती है. लौंग के तेल में नमक मिला कर सिर पर लगाने से ठंडक का अहसास होता है.

सांस के रोग में राहत दिलाये
दमे में भी लौंग (Clove) काफी उपयोगी होती है. दमे से पीडित व्यक्ति को लौंग की पांच कलियों को 30 मिलीलीटर पानी में उबाल कर काढ़ा बना कर शहद के साथ दिन में तीन बार पिलाएं, काफी लाभ होगा.

घाव में संक्रमण से बचाव
एंटीसेप्टिक गुणों के कारण लौंग (Clove) चोट, खुजली और संक्रमण में काफी उपयोगी होती है. इसका उपयोग कीटों के काटने या डंक मारने पर भी किया जाता है. इसे किसी पत्थर आदि पर पानी के साथ पीस कर काटे गए या डंक वाले स्थान पर लगाना चाहिए, काफी लाभ होता है.

पाचन शक्ति मजबूत बनाती है
लौंग पाचन शक्ति बढ़ाती है। इसके सेवन से भूख तेज लगने लगती है, इसलिए मसाले में लौंग (Clove) का नियमित सेवना करें. सामान्य आदमी को भोजन में प्रतिदिन दो लौंग का अवश्य सेवन करना चाहिए, ताकि हाजमा और पाचन तंत्र दुरुस्त रहें.

उलटी होने पर लाभ मिलता है
उलटी होने पर भुनी लौंग (Clove) के पाउडर को शहद में मिला कर सेवन करने से तत्काल लाभ होता है. यदि जी मिचला रहा हो तो 2 लौंग पीस कर आधा कप पानी में मिला कर गर्म करके पीने से लाभ होगा.

तनाव से दिलाये राहत
अक्सर लोग तनाव के समय सिगरेट जला लेते हैं या ऐसा कोई अन्य उपाय करते हैं, जो कई बार नुकसानदेह भी साबित होता है. एक लौंग (Clove) आपके ऐसे तनाव को ही नहीं कम करती, बल्कि अपने विशिष्ट गुण के कारण थकान को कम करने का भी काम करती है.

loading...

लौंग की चाय पीने के फायदे

चाय हमारी रौजाना की दिनचर्या में शामिल है. सुबह-सुबह एक कप गर्मा गर्म चाय पीकर हम अपना दिन शुरू करना पसंद करते हैं. अगर आप हर रोज एक जैसी चाय पी पीकर बोर हो गये हो तो आप लौंग (Clove) की चाय आजमा सकते है. लौंग एक ऐसी चीज़ है जो हर किसी के किचन में पाई जाती है. ये आपकी चाय में न सिर्फ एक स्पेशल और ताज़ा टेस्ट लाएगी बल्कि लौंग की चाय पीने से आपकी सेहत को भी फायदे पहुंचेंगे.

1)  दांत दर्द और मसूड़े दर्द में फायदा – लौंग में सूजन दूर करने वाले (anti-inflammatory) तत्व मौजूद होते हैं. जो मसूड़ों की सूजन में राहत पहुंचाते हैं. इसलिए अगर आपके मसूड़ों और दांतों में दर्द है तो लौंग की चाय पियें. लौंग (Clove) आपके मुंह से बैक्टीरिया दूर कर देगी, और इससे आपके दांतों व मसूड़ों का दर्द भी दूर हो जाएगा.

2)  साइनस रोग में फायदा– क्या आपको साइनस की समस्या है? आप सुबह एक कप गर्म लोंग की चाय पियें और फिर देखिये कि आपकी इस समस्या में कितनी राहत मिलती है. लोंग में मौजूद इजेनॉल (eugenol) के कारण लौंग बलगम हटाता है और गर्माहट देता है. जिससे कि साइनस से पीड़ित व्यक्ति को राहत मिलती है.

3)  बुखार से राहत – लोंग की चाय में उच्च मात्रा मैग्नीशियम, विटामिन ई और विटामिन के पाया जाता है. इसमें सूजन दूर करने वाले और बैक्टीरियल इंफेक्शन से लड़ने वाले तत्व भी होते हैं. लौंग में ऐसे गुण भी होते हैं जो बुख़ार कम कर देते हैं और इम्यूनिटी स्तर बढ़ा देते हैं.

4)  पाचन क्रिया करे दुरुस्त – दोपहर या और रात को खाना खाने से पहले एक कप लोंग की चाय पियें. ऐसा करने से आपका रक्त संचरण और सलाइवा बनना बढ़ जाएगा, जिससे कि खाना आसानी से पच जाएगा. इसके अलावा, लौंग से एसिडिटी की समस्या भी दूर हो जाती हैं. और पेट दर्द कम हो जाता है.

5)  आंतों के कीड़ो को नष्ट करे’– लोंग की चाय का इस्तेमाल पुराने ज़माने से आंतों के कीड़े मारने के के लिए किया जाता है. लौंग में मौजूद एंटी-इनफ्लेमेटरी तत्व आंतों के कीड़ो साफ कर देते हैं, जिससे कि पेट में दर्द और अन्य समस्याओं से राहत मिलती है.

6)  प्राकृतिक सेनेटाइज़र – ये बात कम ही लोग जानते हैं कि ठंडी लोंग की चाय एक शानदार हैंड सेनेटाइज़र के रूप में काम करती है. बस आपको हाथ में थोड़ी सी लोंग चाय लेकर उससे दोनों हाथ साफ करने हैं. इससे जो घर्षण पैदा होगा उससे हाथ के बैक्टीरिया नष्ट हो जाएंगे. और ये नेचुरल है, इसलिए इसके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं होंगे.

7)  त्वचा में इंफेक्शन से राहत – लौंग में एंटीसेप्टिक तत्व मौजूद होते हैं. जिस वजह से लौंग की चाय से बहुत सारे त्वचा के इंफेक्शन ठीक हो जाते हैं. लौंग की चाय पीने से शरीर के टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं. आप इस चाय को घाव या फंगल इंफेक्शन पर भी लगा सकते हैं.

लौंग की चाय बनाने की विधि

एक चम्मच लोंग  को मिक्सी में पीस लें. अब इसे एक कप पानी में डालकर 5-10 मिनट उबलने दें. जब ये उबलने लगे तो इसमें आधा चम्मच चाय पत्ती मिलाकर इसे कुछ और देर उबलने दें. अब इसे छान लें। गर्मागर्म पियें और पिलायें.

You May Be Interested

Leave a Reply