आप यहाँ पर हैं

स्वप्नदोष (Wet Dreams) के मुख्य कारण तथा उपचार

स्वप्नदोष (Wet Dreams) – ज्यादातर युवा इस बात से परेशान नजर आते है कि रात को सोते समय उनको स्वप्नदोष (Wet Dreams) हो जाता है. ये कोई रोग नहीं है. गहरी नींद में जब आप यौन क्रीडा के द्रश्य देखते है तो आपके जननेन्द्रिय में उत्तेजना आती है. शुक्राशय में एकत्रित हुआ शुक्र निकल जाता है. इसे ही स्वप्न दोष यानी (Wet Dreem) कहते है.

यही वीर्य जब अधिक मात्रा में या नित्य क्रम में होने लगता है तो नपुंसकता भी होने की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता है.  उस स्तिथि में इसका उपचार अनिवार्य हो जाता है. वैसे तो ये एक स्वाभाविक क्रिया है. लेकिन  कारण शरीर में उत्पन्न होने वाली शुक्राणु कोशिकाओं को बहुत मात्रा में शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है.स्वप्नदोष (Wet Dreams)

loading...

स्वप्नदोष (Wet Dreams) के कारण

जब किसी युवक को हस्तमैथुन से वीर्य बर्बाद होने से शरीर में कई तरह की कमजोरियां महसूस होने लगती हैं. तो वह ग्लानिवश हस्तमैथुन की आदत छोड़ने की कोशिश करता है. लेकिन इस कोशिश में वह हाथों पर तो काबू पा लेता है लेकिन मन पर काबू नहीं रख पाता क्योंकि मन तो उसका अश्लील फिल्मों व नंगे दृश्यों वाले गीतों में लगा रहता है. जो आजकल टी.वी. चैनलों में देखने सुनने को मिलते हैं. ऐसी हालत में उसके मन में अनेकों कल्पनाएं घूमती हैं. वह नींद में भी ऐसी कल्पनाओं के सपने देखने लगता है. जिसके कारण उसका वीर्यपात हो जाता है. नींद में हुए इस वीर्यपात को ही स्वप्नदोष कहते हैं. कई बार पेट के खराब रहने की समस्या भी इसका कुछ कारण बन सकती है. स्वप्नदोष की अधिकता किसी भी व्यक्ति के लियें बहुत अधिक हानिकारक हो सकती है.

loading...

स्वप्नदोष (Wet Dreams) के उपचार

  1. स्वप्नदोष होने पर मुलहठी का चूर्ण आधा चम्मच और आक की छाल का चूर्ण एक चम्मच दूध के साथ लें.
  2. तुलसी की जड़ के टुकड़े को पीसकर पानी के साथ पीना लाभकारी होता है अगर जड़ नहीं उपलब्ध हो तो तो बीज 2 चम्मच शाम के समय लें.
  3. अदरक रस 2 चम्मच, प्याज रस 3 चम्मच, शहद 2 चम्मच, गाय का घी 2 चम्मच, सबको मिलाकर सेवन करने से स्वप्नदोष तो ठीक होगा ही साथ मर्दाना ताकत भी बढ़ती है.
  4. नीम की पत्तियाँ नित्य चबाकर खाते रहने सेस्वप्नदोष जड़ से गायब हो जाएगा.
  5. कांच के गिलास में बीस ग्राम पिसा हुआ सुखा आंवला डाले. इसमें साठ ग्राम पानी भरें और फिर बारह घंटे भीगने दें तथा फिर छानकर इस पानी में एक ग्राम पीसी हुई हल्दी मिलाएं और पीएं.
  6. आंवले  का मुरब्बा रोज खाने से स्वप्नदोष में लाभ होता है आँवले का मुरब्बा रोज खाएँ ऊपर से गाजर का रस पिएँ.
  7. पिसे हुए अनार के छिलके पांच ग्राम सुबह और शाम लेने से स्वप्न -दोष नहीं होता है इसे नियमित भी ले सकते है.
  8. लहसुन की दो कुली टुकड़े करके पानी से निगल जाएं आपको इससे स्वप्र दोष नहीं होगा-यह प्रयोग रात को सोते समय हाथ पैर धोकर रोज करें.
  9. काली तुलसी के दस-बारह पत्ते रात को जल के साथ ले लेकिन तुलसी के पत्ते सूर्यास्त से पहले ही तोड़ कर रख ले सूर्यास्त के बाद तुलसी के पत्ते न तोड़े.
  10. सफेद प्याज का रस दस ग्राम, अदरक का रस आठ ग्राम, शहद पांच ग्राम, घी तीन ग्राम मिलाकर रात्रि को सोते समय पीने से स्वप्नदोष नहीं होता है.

You May Be Interested

Leave a Reply