आप यहाँ पर हैं

कायफल (Box Myrtle) घुटनों के दर्द और सूजन का रामबाण इलाज

कायफल Kayfal (Box Myrtle) घुटनों के दर्द और सूजन का रामबाण इलाज – कोंकण प्रान्त में इसे आसानी से देखा जा सकता है. हिमालय की तराई में भी इसकी पैदाबार अधिक होती है. इसके पत्ते लम्बे तथा चौड़े होते हैं. इनका प्रयोग पत्तल बनाने के लिए किया जाता है. इसकी प्राय दो जातियां होती हैं. काली तथा सफेद.

इसकी छाल लचीली और मजबूत होती है. इस कारण इसकी रस्सी बनाई जाती है. इसकी छाल को ही कायफल कहते हैं. इसका प्रयोग पित्त, ज्वर, कफ, योनीदोष, विष, क्रमी, मिर्गी तथा नपुंसकता के नाश में किया जाता है. यह नपुंसकता को खत्म करता है.कायफल (Box Myrtle) घुटनों के दर्द और सूजन का रामबाण इलाज

loading...

कायफल (Box Myrtle) घुटनों के दर्द और सूजन का रामबाण इलाज

कायफल (Box Myrtle) के अन्य नाम

इसे और भी कई नामों से जाना जाता है. जैसे- कट्फल, कटफल, कार्यछल, कुम्भा, किरूशीवनी, इम्पेमारा, आदि कहते हैं.

कायफल (Box Myrtle) के आयुर्वेदिक उपयोग

loading...

दांतों के रोग में- कायफल की छाल का काढ़ा बना कर कुल्ला करने से दांत मजबूत होते हैं. और दांतों के सभी रोग दूर हो जाते हैं.

लू लगने पर- लू लगने पर इसकी छाल का जूस निकाल कर पिलाने से लाभ होता है.

जलने पर- किसी भी प्रकार के जले पर इसकी छाल का रस लगाना जलन को कम करता है. साथ ही घाव भी जल्दी भरता है.

मिर्गी आने पर- मिर्गी का दौरा पड़ने पर इसका फल घिस कर पिलाने से लाभ होता है.

श्वास में- श्वास होने पर इसकी छाल का रस राई के  साथ पीस कर पिलाने से हितकर होता है.

घुटनों के दर्द के लिए रामबाण इलाज

इसके उपचार के लिए बाजार से 250 ग्राम कायफल लाकर उसके टुकड़े या चूरा करके उसे 1 लीटर सरसों के तेल में अच्छी तरह पका ले और फिर उसे छानकर उस तेल से घुटनों की मालिश करने के बाद सिंकाई करे या कायफल की छाल बाजार से लाकर उसे नीबू के रस में घिसकर उसका लेप घुटनों पर लगाकर सिंकाई करें. इसे उपचार को 15 दिनों तक लगातार करने से घुटनों के दर्द और सूजन में लाभ मिलता है.

You May Be Interested

Leave a Reply